अदालती सफलता के लिए ज्ञान नहीं, फितरतों की जरूरत ज़्यादा

: छत्‍तीसगढ़ के महाधिवक्‍ता कनक तिवारी का कुबूलनामा : कोर्ट व वकील समाज में परेशानी का बड़ा कारण : जनता में अपमान, असहायता, पराजय और घबराहट न दूर कर पाया : कनक तिवारी रायपुर : महाधिवक्‍ता रह चुका एक शख्‍स जब समाज के प्रति न्‍यायपालिका की असफलता की भूमिका पर बोलता है, तो साफ समझियेगा […]

आगे पढ़ें

खादी में मोदी झमाझम, गांधी जी घर-बदर

: वोकल फॉर लोकल, 999 रुपयों में तीन मास्‍क : खादी अब गांधी का नहीं रहा, कुछ दिनों बाद देश भी नहीं रहेगा : खादी उद्योग ने कोरोना में अपना अवसर खोजा : कुमार सौवीर लखनऊ : आजादी के आंदोलन में अपनी बेमिसाल भूमिका निभाने वाले खादी के तेवर अब शोख होते जा रहे हैं। […]

आगे पढ़ें

चमार नहीं, हरिजन में सम्‍मान खोजने लगे हैं बसपा के दलित

: कठोर परिश्रम का प्रतीक हैं सुखलाल। महीने में दस दिन लखनऊ, बाकी दिन गांव में खेती : मायावती ने पूछा था कि क्‍या गांधी जी शैतान की औलाद हैं : कुमार सौवीर  लखनऊ : यह सुखलाल हैं। बहराइच के अरई गांव के रहने वाले। अरई के बारे में आपको शायद कोई खास जानकारी न […]

आगे पढ़ें

मुस्लिमों के खैरख्वाह थे पटेल

: ‘‘जाति अथवा धर्म पर ध्यान दिए बिना, देश या राज्य का अस्तित्व सभी के लिए होना चाहिए’’ : सूचना व प्रसारण मंत्री के नाते पटेल ने आकाशवाणी से बार-बार घोषणा कराई की बापू का हत्यारा हिन्दु था: ‘‘भारतीय मुसलमानों को सोचना होगा कि अब वे दो घोडों पर सवारी नहीं कर सकते।’’ के विक्रमराव […]

आगे पढ़ें

गांधी जयन्‍ती: जरा गौर से टटोलिये कि कहीं हम लोग ही अपने बुजुर्गों के गोडसे तो नहीं बनते जा रहे ?

: नेहरू जी अपने बाथरूम में दो घंटे तक पड़े रहे, दम निकल गया : ताशकंद में मौत के वक्‍त शास्‍त्री के साथ कोई भी नहीं था, वे भी दर्दनाक मौत मरे : बेहद अकेले होते जा रहे हैं हमारे समाज के वरिष्‍ठ नागरिक : अकेलेपन ने एकल-न्‍यूक्लियर के बुजुर्गों की छीछालेदर कर डाली : […]

आगे पढ़ें

हमें नहीं डरा सकते हैं तालिबान : मलाला

पाकिस्तान की मेरी बिटिया बोली, असफल हैं तालिबानी संयुक्त राष्ट्र : संयुक्त राष्ट्र में ‘मलाला डे’ का आयोजन किया गया। इस दौरान मलाला यूसुफजई ने सभागार में अति विशिष्ट लोगों को संबोधित किया। अपने संबोधन में मलाला ने कहा ‘तालिबान का सोचना है कि वे गोलियों और धमकियों से डरा सकते हैं लेकिन वे पूरी […]

आगे पढ़ें

मलाला ने कहा, गांधी हैं मेरे आदर्श

सरहदी गांधी की शिक्षाएं मुझे रास्ता दिखाती रहीं यूएन : तालिबान के खिलाफ आवाज बुलंद करने वाली पाकिस्तानी किशोरी मलाला यूसुफजई ने संयुक्त राष्ट्र में दिए गए अपने पहले सार्वजनिक भाषण में कहा कि वह महात्मा गांधी के अहिंसा के मार्ग से प्रेरित है। गौरतलब है कि तालिबानी आतंकवादियों ने मलाला के सिर में गोली […]

आगे पढ़ें

गृह जिले में नहीं मना मलाला का जन्मदिन

इमरान की तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी भी खामोश पेशावर : पाकिस्तान सहित दुनिया भर में शुक्रवार का दिन भले ही मलाला के जन्मदिन को मलाला दिवस के रूप में मनाया गया लेकिन उसके गृह नगर में कोई कार्यक्रम आयोजित नहीं हुआ। खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के स्वात जिले में किसी ने मलाला को याद भी नहीं किया। प्रांत […]

आगे पढ़ें

मलाला बोली, ‘एक कलम बदल सकती है दुनिया’

मनाया संयुक्त राष्ट्र में 16वां जन्मदिन संयुक्त राष्ट्र : पाकिस्तान में तालिबान की धमकी की परवाह न करते हुए लड़कियों की शिक्षा की पैरोकारी करने वाली मलाला यूसुफजई ने संयुक्त राष्ट्र से कहा कि वह आतंकवादी खतरे के सामने खामोश नहीं होंगी. आपको बता दें कि मलाला आज 16 साल की हो गई है। उनके […]

आगे पढ़ें

है बिना कमीज वाले गांधी और मुसोलिनी-हिटलर में मुकाबला

यौन-हिंसा से व्याथित राष्ट्रपति बोले: फिर तय हों नैतिक मापदंड कोलकाता : देश में महिलाओं और बच्चों के खिलाफ हाल की नृशंस यौन हिंसा से दुखी राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने रविवार को कहा कि देश के नैतिक मापदंड फिर से तय करने की जरूरत है। राष्ट्रपति जादवपुर विश्वविद्यालय में एक सभा को संबोधित कर रहे […]

आगे पढ़ें