एक जज की आत्‍मकथा: सिस्‍टम से झंझट

: जजों में भी होते हैं एक से बढ़ कर एक नायाब लोग : एक जज में भी धड़कता है जोश और जुनून: बाँदा का मिला : एक जज की आत्‍मकथा-एक : राजेंद्र सिंह बाँदा: यह कहानी है सन 1990-92 की। इसका शीर्षक रखा है मैंने :- आर0एम0 साहेब…Encounter with the system. तो साहब। पहली […]

आगे पढ़ें

जिला जज से मांग ली गुलाब के पौधों की कीमत

: पैैसा मांगने पर खफा जज बोले कि क्‍या हम तुम्‍हारा पैसा मार लेंगे : बांदा की पोस्टिंग में गजब सुख भरे दिन बीते रे भैया : एक जज की आत्‍मकथा- तीन : राजेंद्र सिंह बांदा: (गतांक से आगे) प्रथम : एक बार जिला जज गुप्ता साहेब ने मेरा लखनऊ साइड का प्रोग्राम देखा तब […]

आगे पढ़ें

मैजिस्‍ट्रेट ने की एजे से जिला जज की शिकायत

: पूरे खानदान को बिना टिकट यात्रा कराते हैं जिला जज : जस्टिस बीएम लाल को लोग बम-लाल कहते थे : एक जज की आत्‍मकथा- चार : राजेंद्र सिंह बांदा: (गतांक से आगे) बाँदा में एक शाही जी वरिष्ठतम मुंसिफ थे जो सुपरसीड थे और कहते थे कि भंवर सिंह के बैच मेट थे । […]

आगे पढ़ें

मैजिस्‍ट्रेट को मिली बच्‍चों के अपहरण की धमकी

: आधी रात को जंगल में ट्रेन रूकवा कर बिना टिकट यात्रियों को पकड़ा : उन्‍हें वेटिंग रूम में बंद कराया : एक जज की आत्‍मकथा- छह : राजेंद्र सिंह बांदा : (गतांक से आगे)और एक दिन ऐसा ही चालान जारी करने का खामियाजा मुझ पर भारी पड़ने लगा। वजह थी मेरी कार्यकुशलता और बेईमान […]

आगे पढ़ें

मैजिस्‍ट्रेट की मदद न्‍यायपालिका ने नहीं, संबंधों ने की

: मुझे पूरा भरोसा था कि हाईकोर्ट केवल बुरा कर सकती है : एक जज की आत्‍मकथा- सात : राजेंद्र सिंह बांदा: (गतांक से आगे) फिर कुछ दिन पीछे मुझे गोपनीय सूचना मिली कि आपके बच्चों के अपहरण की योजना तैयार हो रही है , संभलकर रहिएगा ।मुझसे कहा गया कि हाई कोर्ट इन्फॉर्म कर […]

आगे पढ़ें

जिला जज की विदाई में बगावत कर बैठे दो मैजिस्‍ट्रेट

: झटके में याद आने लगे त्रेता से लेकर द्वापर तक के किस्‍से : एक जज की आत्‍मकथा- आठ : राजेंद्र सिंह बांदा: (गतांक से आगे) जिला जज के स्थानान्तरण का आदेश आ गया । नए जिला जज श्री जेबी सिंह आ रहे थे जो बेधड़क और ईमानदार छवि वाले थे । मैंने चैन की […]

आगे पढ़ें

गुस्‍से में बाभन जस्टिस, ठाकुर जस्टिस ने पतंग थामी

: गैरकानूनी ट्रेन रूकवाने पर दबाव डाल रहे थे प्रशासनिक जस्टिस : मैजिस्‍ट्रेट की ईमानदारी अखरी जस्टिस को : एक जज की आत्‍मकथा- दो राजेंद्र सिंह बाँदा : (गतांक से आगे) धुंवाधार से कुतुब टू हज़रत निज़ामुद्दीन वाया बाँदा । धुंवाधार जबलपुर का वो स्पॉट है जहां नर्मदा नदी काफी ऊंचाई से सैकड़ों फ़ीट नीचे […]

आगे पढ़ें

चंद्रकांता संतति: हाईकमान को मेरी खबर देने लगे ऐयार

: देवकीनंदन खत्री का किस्‍सा मुझ पर ही नमूदार : जीआरपी के लोग कराते थे बिना टिकट यात्रा : एक जज की आत्‍मकथा-पांच राजेंद्र सिंह बांदा: (गतांक से आगे) बॉम्बे से आर0पी0एफ0 की स्पेशल फ़ोर्स दी गई । बाँदा में एस0पी0 अशोक धर द्विवेदी आये । उन्होंने मुझे चेकिंग के लिए 4 से 6 सशस्त्र […]

आगे पढ़ें

तो भई मैजिस्‍ट्रेटों ! ये कुछ सलाहें हैं, कण्‍ठस्‍थ कर लेना

: एक जुझारू जज ने अपनी सेवा के अधीनस्‍थ अधिकारियों की सलाह की एक लिस्‍ट बनायी है : एक जज की आत्‍मकथा- नौ : राजेंद्र सिंह बांदा: (गतांक से आगे) हम लोग रात की ट्रेन से मानिकपुर से लौटे । कॉलोनी के अंदर पहुंचने पर श्री सिन्हा साहेब से आमना सामना हुआ ।बोले यार राजिन्दर […]

आगे पढ़ें