पहली नौकरी, जो ज्वाइनिंग से पहले ही छोड़ दी

: संपादक का कमरा मार्केटिंग सेक्शन में बरामदा की दूरी पर था : एक ही झटके में सपने बिखर गए : पूरे बैच ने पत्रकारिता को लात मारी, हम बेरोजगारी में पहाड़ खोदने निकले हैं : योगेश मिश्र लखनऊ : कॉलेज का तीसरा और आखिरी साल शुरू हुआ. अब वक़्त था करियर को शुरुआती आकार […]

आगे पढ़ें

बलिया के पत्रकार चाटेंगे शिलाजीत। पूंछ रखेंगे पिछवाड़े में

: रतन की हत्या दो दिन पहले ही करने की योजना थी, कारण अवैध-संबंध भी : पत्रकारों की औकात उनकी पूंछ से आंकिये : दोलत्ती पर हमला करेंगे सियार, साहस तो देखिये : कुमार सौवीर बलिया : चूल्हे पर भोजन पकाने वाली पुरानी पीढी हमेशा पतीली में खुदबदाते चावल के दो-चार दानों को उंगलियों से […]

आगे पढ़ें

न जाने कहां छिपे-दुबके रहे “श्वान-श्रृगाल”

: न आजतक का अकेला आया, और न पशुवत पशुपतिनाथ : वार्तालाप आमंत्रण हेतु कई संदिग्ध फोन आये : मैंने अपनी जगह आमंत्रित किया, उनके यहां नहीं : कुमार सौवीर लखनऊ : पिछले तीन दिनों से बलिया में हूँ। बंसी-बांसुरी बजाते इधर-उधर भ्रमण कर रहा हूं। लेकिन पत्रकारिता की एक भी “विष-कन्या” मेरे सामने नहीं […]

आगे पढ़ें

पत्रकारिता सिर्फ रोटी नहीं, अभिव्‍यक्ति का माध्‍यम भी है

: न्‍यूज-रूम में अगर मैं होता तो दीपक चौरसिया को तमीज सिखा देता : लिखना और बोलना पहले पायदान पर, जबकि कूटना आखिरी पायदान पर : सुब्रत राय, विश्‍वेश्‍वर कुमार, यशवंत राणा, विवेक अवस्‍थी और विनोद शुक्‍ला की तरह हरकत कीजिए, जवाब फौरन दूंगा : कुमार सौवीर लखनऊ : न्यूज़ नेशन चैनल में ग्रुप-डिस्कशन के […]

आगे पढ़ें

लखनवी कुत्ते की जन्मदिन पार्टी मुंबई में

: मुम्‍बई में हिंदी पत्रकारिता का गिद्धभोज-ब्रह्मभोज सम्‍पन्‍न : कुख्‍यात पूर्वांचली नेता की पार्टी में श्‍वान-नेता का सम्‍मान : अनीता शुक्‍ला मुम्‍बई : त्राहिमाम! त्राहिमाम! इंद्र दरबार में अचानक आदि पत्रकार देवर्षि नारद का आर्तनाद गूंजा। ‘क्या हुआ देवर्षि? मंगलवेला में यह आर्तनाद क्यों?’ महाराज, कुल विनाश की और है। पत्रकारिता मृत्युशैया पर पड़ी है।‘ […]

आगे पढ़ें

व्‍यंग्‍य-कविता: पहचानिये ऐसे पत्रकारों को

: व्‍यंग्‍यकार आत्माराम यादव पीव बता रहे हैं अधिकांश पत्रकारों का चाल-ढाल : यह व्‍यक्ति नहीं हैं, बेफिक्र घूमते सांड़ होते हैं। समाज पर भार हैं : आत्माराम यादव पीव शहर में इनकी खूब चर्चा है अतिक्रमण हटाने वाली टीम के अधिकारियों से चलता खर्चा है। ये शौकीनमिजाज है सभी जगह खबू चरते-फिरते है सांडों […]

आगे पढ़ें

बनारस में दैनिक भास्‍कर को मुंह छिपाने लायक नहीं छोड़ेगा यह संपादक

: रूटीन की खबरें जब संपादक लिखेगा, तो रिपोर्टर फिर सुलभ शौचालय में बस जाएंगे : बस चले तो पूरे अखबार की हर लाइन में अपनी अपना ही नाम छपवा ले : चर्चाएं हैं कि मूर्खतापूर्ण विषयों पर डॉक्‍टरी छांटा करते हैं डॉ वरूण कुमार उपाध्‍याय : इंटरव्‍यू का आधा से ज्‍यादा हिस्‍सा बकवादी को […]

आगे पढ़ें

पत्रकारिता छोड़ हलवाई की दूकान खोल ली कौशलेंद्र ने

: जर्नलिज्‍म में भूखों मरने से बेहतर होता है रेस्‍टोरेंट खोल कर दूसरों का पेट भरना : पत्रकारिता में अब सिर्फ या तो दर्दनाक भुखमरी पसरी है, या फिर विशुद्ध दलाली : मेधा और क्षमता का बेहतर इस्तेमाल तो होगा : कुमार सौवीर लखनऊ : जर्नलिज्‍म में क्‍या बचा है। पत्रकारिता में अब सिर्फ या […]

आगे पढ़ें

आइये, शलभमणि त्रिपाठी को शहद लगा कर चाटा जाए

: ऐसी दोस्‍ती ! मेरे अल्‍लाह मौला तौबा-तौबा : हालांकि मित्रता के मामले में यह कहावत बेकार है कि न काम के न काज के, मन भर अनाज के : जान देने का तैयार हैं, मगर भित्‍तर-खाने वाली खबर देने में कांच निकल जाती है शलभमणि त्रिपाठी की : कुमार सौवीर लखनऊ : अब क्या […]

आगे पढ़ें

पुण्‍यप्रसून दूध के धुले नहीं, लेकिन आज दूसरा खतरा भयावह है

: पुण्‍यप्रसून ने पत्रकारिता की सीमाएं तोड़ीं, पर हमारा निशाना तो निरंकुश सत्‍ता पर है : : हिन्‍दी पत्रकारिता के शिखर-पुरूष कमर वहीद नकवी से पत्रकारिता के ताजा विवादों पर बातचीत : दूध के धुले नहीं रहे हैं पुण्‍यप्रसून : कुमार सौवीर लखनऊ : एक पत्रकार कभी भी किसी भी मामले में पक्षकार नहीं बन […]

आगे पढ़ें

मी-लॉर्ड खफा हैं हिंदी से, वकील पर लगाया जबरदस्त जुर्माना

: इलाहाबाद हाईकोर्ट के मी-लॉर्ड से हिन्‍दी में बहस करने पर आमादा है वकील की पुंगी बजी : खतरे में है देश की बिंदी, यानी माथे की बिंदी, जिसको कहते हैं हिंदी : खबरें है कि योर ऑनर नहीं चाहते थे कि कोई वकील उनके सामने हिंदी में संबोधित करें : कुमार सौवीर लखनऊ : […]

आगे पढ़ें

गंदी बात। तुमने एसएसपी मंजिल सैनी की बातचीत वायरल क्‍यों की पत्रकार जी? यह गंदा धंंधा है

: साधना चैनल में काम करते हैं अभिषेक मिश्र : तुम्‍हारा काम पत्रकारिता करना है या फिर अफसरों से फोन पर हुई बातचीत को बेच देना : इससे बड़ा दुखद हादसा क्‍या होगा कि अब लखनऊ की पत्रकारिता की दिशा ऐसे गंदे नाला की ओर बढ़ रही : कुमार सौवीर लखनऊ : लखनऊ के एक […]

आगे पढ़ें