दुनिया के संकटों का समाधान हो सकता है पर्यूषण परंपरा

: मिच्छामी दुक्कड़म : मुझे मेरी “…” दुष्टताओं के लिए क्षमा कीजिए, मुझसे भूल हुई : अहंकार को क्षण-भर में पिघला सकती है क्षमा-याचना : त्रिभुवन उदयपुर : जैन पर्यूषण परंपरा का यह महान वाक्यांश समूची दुनिया के संकटों का समाधान हो सकता है, लेकिन यह शून्य होकर रह गया है। आपने या मैंने यह […]

आगे पढ़ें

मिच्छामि दुक्कड़म: पापा बोले तो मैं फफक कर रो पड़ा

: पर्यूषण-पर्व पर पूरे गर्व के साथ आत्‍म-विश्‍लेषण कीजिए : बेधड़क और साफ दिल से कहिए कि मेरी गलतियों और अपराधों के लिए मुझे क्षमा कर दीजिए : कुमार सौवीर लखनऊ : “मिच्छामि दुक्कड़म, अर्थात मेरी गलतियों और अपराधों के लिए मुझे क्षमा कर दीजिए।” बीते बरस आज ही की शाम को मेरी बेटी साशा […]

आगे पढ़ें