पिता का मतलब तो सियारामशरण त्रिपाठी का बेटा जानता है। आई लव यू पापा

बिटिया खबर
: काफ्का ने तो बाप नामक संस्था को अनजाने में ही बदनाम कर दिया : दुनिया में मशहूर साहित्यकार फ्रांक्वा काफ़्का शायद ठीक से समझ नहीं पाये : कुमार सौवीर बेहद बदशक्ल, असभ्य और अराजक होने के चलते अक्‍सर पिट जाता था :

कुमार सौवीर

लखनऊ : किसी की भी ज़िन्दगी में बाप की क्या भूमिका होती है, यह बात दुनिया में मशहूर साहित्यकार फ्रांक्वा काफ़्का शायद ठीक से समझ नहीं पाये। मानवीय रिश्तों को देखने, समझने और उसका विश्लेषण और व्याख्या करने में काफ्का वाकई बेजोड़ रहे हैं। लेकिन मैं अपने निजी सन्दर्भ और अनुभवों के आधार पर मैं दावे से कह सकता हूँ कि काफ्का ने शायद अपने पिता को समझने में सिरे से ही गलती की। एक छोटी सी किताब लिखी जिसका नाम था:- पिता को एक पत्र। इस किताब में जितनी भी गालियां हो सकती थीं, काफ्का ने अपने पिता को दे डालीं। नतीजा यह कि उन्होंने बाप नामक संस्था को अनजाने में ही बदनाम कर दिया।
मैं मानता हूँ कि काफ्का बेहद संवेदनशील व्यक्ति थे। लेकिन शायद मुझसे बेहद कम।
मेरे पिता स्वर्गीय सियाराम शरण त्रिपाठी यूपी के नेपाल सीमान्त जिले बहराइच में जन्मे। पापा के कैशोर्यावस्था में ही बाबा का देहांत हो गया। पट्टीदारों ने जमीन कब्ज़ा कर घर से बेदखल कर दिया। गांव से 40 किलोमीटर दूर शहर आकर पापा ने अपने मंझले भाई श्री ओंकारनाथ त्रिपाठी के साथ कथा पाठ का धंधा शुरू किया। पापा कथा सुनाते थे जबकि चाचा घंटा बजाते थे। एक बार एक दारोगा ने उन्हें पकड़ा, जब वे नौटंकी देख कर लौट रहे थे। रात भर पापा ने दारोगा के पैर दबाये जबकि चाचा नौटंकी के गीत सुनाते रहे।
दादी बहराइच की बाजार में घरों में भोजन पकाने यानी महराजिन का काम करती थीं। इसी बीच पापा की शादी हो गई। मम्मी को मलिहाबाद में सरकारी स्कूल में टीचरी मिली लेकिन पापा ने एक नया स्कूल शुरू करने की जिद में मम्मी की छुट्टी करवा दी। अब पापा और मम्मी ने चाचा के साथ निशातगंज में धर्म संघ विद्यालय शुरू किया। तब आज की तरह स्कूलों से पैसे नहीं बरसते थे। कड़की थी। ऊपर से कुछ विवाद भी भड़के। स्कूल बंद हो गया।
साफ़ बात यह भी थी कि मम्मी के मुकाबले पापा बेहद डिमांडिंग थे। दाम्पत्य टूटा। मम्मी ने बहराइच में सरकारी स्कूल की नयी नौकरी शुरू कर ली। कुछ बरस बाद पापा ने हम 4 भाई-बहनों को एक-एक करके लखनऊ बुलवा लिया ताकि परवरिश बेहतर हो सके।
इसके पहले पापा कम्युनिस्ट पार्टी में चंद्र चारु के नाम से बड़े ओहदे पर थे। फिर पत्रकारिता में दैनिक जागरण और बाद में सन्-66 में लखनऊ के स्वतंत्र भारत में आये। तब यह अखबार किसी विशाल तोप से ज्यादा हुआ करता हुआ था, और पापा किसी बड़े बारूद के गोला।
पापा पत्रकार सामाजिक, साहित्य, अदबी मंच और राजनीति में भी बहुत सक्रिय थे। वे आईएफडब्ल्यूजे में राष्ट्रीय सचिव और उसकी यूपी श्रमजीवी पत्रकार संघ में महासचिव रहे। यूपी के अधिकाँश जिलों में संगठन स्थापित करने का श्रेय पापा को है।
पापा का वेतन तब बहुत कम हुआ करता था। आज के पत्रकारों की तरह वे मलाई सूंघने तक हैसियत भी नहीं रखने थे। सेकेंड्स के सामानों की बाजार निक्सन मार्केट से वे पुराने कपडे अक्सर खरीदते थे।
बहरहाल, इससे पहले ही हमारे परिवार का विघटन हो चुका था। दरअसल, किसी के भी जीवन में मानवीय भाव बहुत प्रभावी होते हैं। पापा बहुआयामी व विलक्षण गुणों से भरे थे। अखबार, ट्रेड यूनियन और सामाजिक जिम्मेदारियां थीं। खर्च ज्यादा और आमदनी बेहद कम। घर का काम भी पूरा। सफाई, कपडे धोना, भोजन पकाना आदि आदि। कोई भी शख्स आखिर कब तक और कितना काम कर पाता? कहीं न कही तो गुस्सा निकलना ही था।
मेरे बड़े भाई आर्तिमान त्रिपाठी उनकी आँखों के सितारे थे जबकि मंझले भाई कीर्तिमान त्रिपाठी उर्फ़ प्रभाकर त्रिपाठी उर्फ़ आदियोग बेहद दुलरवा। बहन रश्मि सबसे छोटी थी तो उस पर तो कुछ नहीं होता था। बचा मैं। चूंकि पूरे परिवार और उस बिल्डिंग में रहने वालों में मैं दीप्तिमान त्रिपाठी उर्फ़ कुमार सौवीर बेहद बदशक्ल, असभ्य और अराजक भी माना जाता था, इसलिए पापा का सारा आक्रोश मेरी पीठ पर ही उतरता था। दिन भर में 2-4 बार तो मोहल्ले में शोर सरीखे बगूले उठाते थे। सब को पता रहता था कि कक्कू की यानी मेरी कुटम्मस चल रही है।
एक दिन हद हो गई तो मैं घर से भाग गया। फिर कानपुर समेत कई जगहों पर होटलों में बर्तन धोने, वेटरी का काम बरसों बरस किया। महीनों तक रिक्शा भी चलाया और बसों में कंघी, नेलकटर, नेल पालिश वगैरह बेचा। फिर कानपुर से लखनऊ की बाज़ारों तक पंसारी का सामान भी सप्लाई किया। इसी बीच हाईस्कूल की परीक्षा दी। इससे पहले ही नुक्कड़ व स्टेज नाटकों में भी हाथ मांजा।
भाषा बढ़िया हो चुकी थी तब तक। दो जून-82 को साप्ताहिक सहारा में प्रूफ रीडर की नौकरी मिल गई। घर वालों से मुलाकात भी होनी शुरू हो गई। लेकिन अक्टूबर-84 को पापा ने बहुत दुखी मन से मुझे बुलाया और बोले:- “मैंने तुम पर बहुत अत्याचार किया। अब घर वापस आ जाओ।” और उसी दिन मैं अपना सारा लेकर पापा के पास पहुँच गया। हकीकत यह थी कि पापा अब टूटने लगे थे। परिवार पहले तबाह हुआ, फिर ट्रेड यूनियन में भी वे हारते दिख रहे थे। बीमारियां भी उन्हें हर कीमत पर गोद लेने, दबोचने को आमादा थीं।
लेकिन इसके 4 महीने बाद यानी 16 जनवरी-85 को उन्होंने हम सब के सामने कसम खायी कि वे अब शराब नहीं पिएंगे। विकल्प के तौर पर उन्होंने भांग की मिठाई खाई। मगर उससे उनकी तबियत ख़राब हो गई। इसके पहले उन्हें भारी अवसाद, ब्लड प्रेशर और लीवर की बीमारियां हो चुकी थीं। पिछले एक बरस से वे शराब के बुरी तरह आदी हो चुके थे। अब वे जान चुके थे कि शराब के बिना वे जिन्दा नहीं रह सकते। लेकिन उन्होंने अपनी जिंदगी में हमेशा जो भी तय किया, वही किया। शराब को हाथ नहीं लगाया। चार दिन में ही शरीर बोलने लगा। पर शराब नहीं छुआ। 20 जनवरी को उन्होंने आधी रात मुझे तब एक नयी रीको घडी दे दी जब मैं बीए की परीक्षा की तैयारी में जुटा था। दिन में नौकरी और रात में पढाई करता था मैं।
27 जनवरी की सुबह साढ़े दस बजे के करीब को जब मैं आफिस के काम में जुटा था, संयुक्त संपादक श्री आनंन्द स्वरुप वर्मा जी ने मुझे पापा की मौत की खबर दी। पता चला कि रात करीब चार बजे के बीच पापा को ब्रेन हैमरेज हुआ था।
कुछ भी हो। मेरा पिता एक आदर्श पिता था। हाँ, वक्त ने उसे तोडा खूब। घरवालों ने उसे ठीक से समझा नहीं। राजनीति में भी उस शख्स को कोई ख़ास मदद नहीं मिली, लेकिन जितनी भी मुकाम, पायदान, समृद्धि, शोहरत, सम्मान उस शख्स को मिला वह बेमिसाल है। काश उस शख्स को इतने दुर्योग अगर नहीं मिलते तो कितना महान बन सकता था मेरा पिता।
आई लव यू पापा।
आप अगर न होते तो मैं कभी भी इस पायदान तक नहीं पहुँच सकता था।
मुझे आप पर बेहद गर्व है पापा।
आई लव यू पापा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *